Pages

Monday, August 31, 2009

check free back links







Shopping


Business, Finance


Health


Sport


Travel


Education


SEO, Computer


Food


Home and garden


Real state


Art And Craft


Casino


Mobile Phone


Entertainment


Autos


Directory



Saturday, August 29, 2009

इतिहास बदलने को वोट डालेगा जापान

इतिहास बदलने को वोट डालेगा जापान



टोक्यो। टेक्नोलाजी के दम पर दुनिया भर में अपने नाम का डंका बजाने वाला जापान अब नई इबारत लिखने जा रहा है। इसकी शुरुआत रविवार को यहां हो रहे आम चुनाव से होगी। राष्ट्रीय असेंबली के लिए हो रहे इन चुनावों में जापान में लगभग आधी सदी तक राज करने वाली रूढि़वादी लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी [एलडीपी] का शासन खत्म होने के आसार व्यक्त किए जा रहे हैं। बीच की 10 माह की अवधि को छोड़कर वर्ष 1955 में अपनी स्थापना के समय से एलडीपी सत्ता में काबिज है। जापान के वर्तमान प्रधानमंत्री तारो असो इसी पार्टी से हैं।इस चुनाव में मतदाताओं का रुझान विपक्षी डेमोक्रेटिक पार्टी आफ जापान [डीपीजे] की तरफ दिख रहा है। जापान के अखबार योमिरी शिम्बुन के मुताबिक यह पार्टी निचले सदन की कुल 480 में से 300 सीटें जीतने में कामयाब रहेगी। अखबार ने 85 हजार मतदाताओं पर किए गए एक सर्वेक्षण के आधार पर यह निष्कर्ष निकाला है। जापान में कुल 10.4 करोड़ मतदाता हैं।डीपीजे के अध्यक्ष युकीओ हातोयामा ने एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि हम मेहनत कर रहे हैं ताकि भविष्य में जापान के लोग यह कह सकें कि इतिहास बदलने की शुरुआत इसी चुनाव से हुई। अमेरिका से इंजीनियरिंग की शिक्षा प्राप्त हातोयामा एक ऐसे राजनीतिक परिवार से संबंधित हैं जिसे जापान का केनेडी परिवार भी कहा जाता है।





यह सामग्री याहू.कॉम से ली गई है



====================================================================================

Wednesday, August 26, 2009

Recession:Not a problem

i next reporter
बात जब करियर की आती है तो कई फैक्टर्स को काउंट किया जाता है. कमाई, स्कोप, ग्रोथ, फ्यूचर प्रॉस्पेक्ट्स केअलावा इसमें रिसेंटली एक टर्म और एड हो गया है और वो है सेफ्टी. रिसेशन के पहले शायद इस प्वॉइंट पर इतनागौर नहीं किया जाता था कि फलां जॉब में करियर कितना सिक्योर है पर आजकल इस टर्म को काफी ज्यादाइंपॉर्टेस दी जाने लगी है. रिसेशन के अंधड़ में कई लोग अपनी जॉब गंवा चुके हैं. इसलिए अब जोर ऐसा करियरचुनने पर है जो कम्परेटिवली सेफ हो. पिछली बार हमने कुछ ऐसे ही करियर ऑप्शंस के बारे में बात की. इस बारजानिए कुछ और ऑप्शंस.
कैटरिंग
अगर आपको खाने-खिलाने का शौक है तो यह बिजनेस आपके लिए सुटेबल है. लोगों के टेस्ट को समझकर उसकेअकॉर्डिग सर्विस प्रोवाइड करना ही इस बिजनेस में सक्सेस का मूल मंत्र है. कैटरिंग बिजनेस की स्टार्टिग आप छोटेलेवल पर टिफिन सर्विस स्टार्ट करके भी कर सकते हैं. अपने आस-पास के ऑफिसेस और हॉस्टल्स में टिफिनदेकर लोगों का टेस्ट समझ सकते हैं. टिफिन के बाद बर्थडे पार्टीज या छोटे फंक्शंस में सर्विस दे सकते हैं. इससे दोफायदे होंगे. एक तो आपको एक्सपीरियंस मिलेगा दूसरे आपका सर्किल भी बनेगा. बीस से तीस हजार की पूंजीलगाकर टिफिन सर्विस की शुरुआत की जा सकती है. इसके लिए आपको टिफिन खरीदने होंगे, कम से कम दोलोग रखने होंगे, एक अच्छा कुक और एक टिफिन पहुंचाने वाला.
वेजीज रेस्टोरेंट की ओनर पूनम टंडन कहती हैं कि इस बिजनेस में कई चीजें मायने रखती हैं. क्वालिटी, क्वांटिटीके साथ टाइम मैनेजमेंट भी जरूरी है. इस बिजनेस में कोई भी सकता है. बस उसे फूड प्रिजर्वेशन की बेसिकनॉलेज होनी चाहिए.
कमाई: इस बिजनेस में कमाई आपके बिजनेस के लेवल पर डिपेंड करती है. हालांकि शुरुआत में महीने के 7 से 10 हजार रुपए तक आसानी से कमाए जा सकते हैं. जैसे-जैसे काम बढ़ेगा इनकम भी बढ़ेगी.
ट्यूशन
ट्यूशन पढ़ाने का काम आज से नहीं हमेशा से ट्रेंड में है पर आजकल इसकी इंपॉर्र्टेस और बढ़ गई है. इसकी सबसेबड़ी खासियत यह है कि इस पेशे में आने के लिए कोई लागत नहीं लगानी पड़ती. आप विषय पर पकड़ के बेसिसपर किसी भी सब्जेक्ट का ट्यूशन पढ़ा सकते हैं. वैसे जनरली मैथ्स, साइंस और इंग्लिश का ट्यूशन ज्यादा डिमांडमें रहता है. टफ कांपटीशन को देखते हुए अब बहुत से लोगों ने कोचिंग्स खोल ली हैं. अगर बड़े लेवल पर कोचिंगपढ़ाना चाहते हों तो कुछ टीचर्स भी अप्वॉइंट कर सकते हैं, जो अपनी फील्ड के एक्सपर्ट हों.
कमाई: अर्निग इस पर डिपेंड करती है कि आप किस लेवल के और कितने बच्चों को पढ़ाते हैं. इस प्रोफेशन मेंमिनिमम इनकम महीने के 5 से 6 हजार के बीच है.
ब्यूटी सैलून
अगर आपको लोगों की जुल्फें संवारना और उन्हें ब्यूटी टिप्स देना पसंद है तो फिर आपके लिए ब्यूटी सैलून काबिजनेस बेस्ट है. यह लगभग एक लाख रुपए में स्टार्ट किया जा सकता है. सैलून के बिजनेस में भी अच्छी कमाईहै. वैसे अब तमाम पार्लर और सैलून वाले अपनी फ्रेंचाइजी भी देते हैं जिसकी सिक्योरिटी मनी डिपॉजिट करकेआप उनकी फ्रेंचाइजी ले सकते हैं.
अगर सैलून के बिजनेस में जाना चाहते हैं तो बेहतर होगा कि किसी ट्रेंड प्रोफेशनल से ट्रेनिंग ले लें. इससे आपकोइस हुनर की बारिकियां पता चल जाएंगी. इसके बाद ही बिजनेस डालें.
जावेद हबीब्स पार्लर के उत्कर्ष बताते हैं कि इस पेशे में चैलेंज और कांपटीशन दोनों काफी ज्यादा है. इसलिएकस्टमर्स को अट्रैक्ट करने के लिए डिफरेंट मेथड्स का यूज करना होता है. जैसे आप स्कीम्स चला सकते हैं. साथही रेट में कंसेशन भी दिया जाता है. हालांकि सबसे बढ़कर है आपकी सर्विस. अगर अच्छी क्वालिटी के प्रोडक्ट्सरखें जाएं तो कस्टमर्स का आप पर विश्वास बना रहता है.
कमाई: शुरुआत में जहां महीने के 5 से 6 हजार तक आसानी से कमाए जा सकते हैं वहीं बाद में यह बढ़कर 30 सेहजार रुपए पर मंथ ईजली पहुंच जाता है. वेडिंग सीजन वगैरह में कस्टमर और बढ़ते हैं.
जिम
आजकल की भागमभाग जिंदगी में फिटनेस एक मेजर जरूरत बनकर उभरी है. आप चाहें तो इस क्षेत्र में भी कदमरख सकते हैं. इसमें शुरुआती इंवेस्टमेंट थोड़ा ज्यादा होता है, लगभग 8 से 10 लाख रुपए. सबसे पहले अपने शहरके पॉश इलाके का चयन करिए जहां आप जिम ओपेन करेंगे. इसके लिए प्लेस किराये पर ली जा सकती है. नेक्स्टस्टेप में जरूरी इक्विपमेंट्स का अरेंजमेंट और ट्रेनर्स अप्वॉइंट करने होते हैं. किसी भी काम की नॉलेज जब खुद होतभी उसमें सफलता के अच्छे चांसेस रहते हैं. इसलिए बेहतर होगा कि पहले आप किसी ट्रेनर के अंडर ट्रेनिंग ले लेंउसके बाद काम शुरू करें. अपने यहां योगा और स्पा वगैरह की एक्स्ट्रा फैसिलिटीज देकर भी आप कस्टमर्स कोअट्रैक्ट कर सकते हैं.
कमाई: महीने के 10 से 15 हजार रुपए शुरुआत में अर्न किए जा सकते हैं. स्टैब्लिश हो जाने के बाद कमाई बढ़जाती है
३५


यह सामग्री http://www.inext.co.in/epaper/default.aspx से ली हैं।

याददाश्त का दुश्मन हाई ब्लड प्रेशर

WASHINGTON (25 Aug, Agency):ब्लड प्रेशर ऐसी बीमारी है जो एक बार लग जाए तो जान जाने से पहलेजाती नहीं. इस बीमारी की जो सबसे खराब बात है वह है इसके साइड इफेक्ट्स. हार्ट, किडनी, लीवर और जानेकिन-किन पार्ट्स को यह इफेक्टेड करती है जिसके बारे में काफी कुछ मरीज जानते हैं, लेकिन शायद ही किसी कोपता हो कि हाई ब्लड प्रेशर याददाश्त का भी दुश्मन होता है. अगर बार-बार आपको हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत होरही है तो आपके भुलक्कड़ होने की पूरी उम्मीद है. इस तरह की प्रॉब्लम की पॉसिबिलिटी मिडएज में ज्यादा होतीहै.
तंत्रिका से जुड़ी मैग्जीन न्यूरोलॉजी में पब्लिश एक स्टडी में इस बात का खुलासा किया है. स्टडी करने वाली टीम नेपाया कि भूलने की प्रॉब्लम 45 साल से अधिक उम्र के लोगों को ज्यादा हो जाती है. ऐसे लोगों के लिए किसी बातपर सोचना या विचार विमर्श करना भी मुश्किल होता है.
डैमेज हो जाता है ब्रेन टीम के चीफ ज्योर्जियस त्सीगोलिस ने बताया कि यह पॉसिबिल है कि हाई ब्लड प्रेशर काइलाज कर या इसकी रोकथाम कर हम भूलने की प्रॉब्लम से बच सकते हैं. अल्बामा यूनिवर्सिटी के ज्योर्जियसत्सीगोलिस की लीड में 45 साल की उम्र के लगभग 20 हजार लोगों की गई रिसर्च के दौरान उन्होंने पाया कि हाईब्लड प्रेशर से ब्रेन की नन्हीं नन्हीं धमनियां कमजोर हो जाती हैं और उनसे ब्रेन डैमेज हो जाता है. धीरे-धीरे यहप्रॉब्लम बढ़ती जाती है और व्यक्ति भुलक्कड़ बन जाता है.


यह सामग्री http://www.inext.co.in/epaper/default.aspx से ली हैं।