Radar की नजरों से ओझल रहेगा mobile OT

देश के नाम अपनी जान तक कुर्बान करने करने का जज्बा रखने वाले सैनिकों के कुछ कर गुजरने में हमारे साइंटिस्ट भी पीछे नहीं. कानपुर स्थित डिफेंस मैटेरियल्स स्टोर्स रिसर्च एंड डेवलपमेंट इस्टैबलिशमेंट (डीएमएसआरडीई) के रिसचर्स ने सैनिकों के लिए एक ऐसा मोबइल ऑपरेशन थियेटर बनाया है, जिसे तुरंत कहीं भी इंस्टॉल करके घायलों का बड़े से बड़ा ऑपरेशन तुरंत किया जा सकेगा. वहीं एंटीमाईक्रोनियल कपड़े का बना होने के कारण इस तंबू या टेंट जैसे ऑपरेशन थियेटर में वायरस या बैक्टीरिया भी घुस नहीं सकेंगे. वहीं दुश्मन के रडार या प्लेन भी इसे देख नहीं पाएंगे. ट्यूजडे को टेक्नॉलजी दिवस के मौके पर अपने किस्म के इस पहले मोबाइल ऑपरेशन थिएटर सहित आर्मी के लिए बने दूसरे प्रोडक्ट्स की एग्जीबीशन लगेगी. डीएमएसआरडीई में स्कूली बच्चे व अन्य लोग इन्हें देख सकेंगे. डीएमएसआरडीई के डायरेक्टर केयू भास्कर राव ने बताया कि इस टेंट ऑपरेशन थिएटर को महज एक पोल (खम्भे) पर क्रिएट किया गया है. इसे जंगल, पहाण, रेगिस्तान जैसी किसी भी जगह पर कुछ ही घंटों में खड़ा किया जा सकेगा. इस टेंट में ऑपरेशन थिएटर, अलग डाक्टर रुम तो होगा ही 10 से 15 पेशंट एक साथ रखे जा सकेंगे.
डीएमएसआरडीई के टेक्सटाइल डिवीजन के हेड डाक्टर अनुराग श्रीवास्तव ने बताया कि इस टेंट को बनाने में एंटीमाईक्रोनियल कपड़े का यूज किया है. वार्ता के दौरान एडीशनल डायरेक्टर डा. एमनसीम, डा. डीके सेतुआ, डा.रजनीश तिवारी मौजूद थे.
Radar की नजरों से ओझल रहेगा mobile OT Radar की नजरों से ओझल रहेगा mobile OT Reviewed by Brajmohan Saini on 6:09 AM Rating: 5

No comments:

Comment Me ;)

Powered by Blogger.