Pages

Thursday, March 19, 2009

ये हैं अरबपतियों के आशियाने

i next desk
KANPUR (14 March):
अरबपतियों के शौैक निराले होते हैं हों भी क्यों न अरबपति जो ठहरे. कभी इनके आलीशान महल चर्चा में आते हैं तो कभी प्राइवेट जेट या लग्जरी याट. अमेरिकी बिजनेस मैगजीन फो‌र्ब्स ने व‌र्ल्ड बिलिनायर्स लिस्ट 2009 के साथ दुनिया के अरबपतियों के आशियाने के बारे में जानकारी भी जुटाई है. आइए जानते हैं क्या हैं इनके आशियानों की खासियतें..
लक्ष्मी का निवास
बिजनेस मैगजीन ने लक्ष्मी मित्तल के घर के बारे में लिखा है कि उनके घर में तुर्की स्टाइल का बाथरूम है और 20 कारों के लिए गैराज है. इस घर में उसी माइन के संगमरमर लगे हुए हैं जिनका यूज ताजमहल को बनाने में किया गया था. लंदन के पास लक्स किंगस्टन में बना 12 बेडरूम का उनका घर दरअसल महल ही है. लक्ष्मी मित्तल अरबपतियों की लिस्ट में 8वें नंबर है उनकी नेटवर्थ 19.3 अरब डालर आंकी गई है.

बिल गेट्स
दिग्गज साफ्टवेयर कंपनी माइक्रोसाफ्ट के चेयरमैन बिलगेट्स एक बार फिर दुनिया के सबसे रिच पर्सन बन गए हैं. इनकी जायदाद 40 अरब डालर आंकी गई है. फो‌र्ब्स के मुताबिक उनका घर एक झील के किनारे बना है. ये घर किसी महल की तरह है, जहां कि सुख-सुविधाओं की कोई तुलना नहीं की जा सकती है. इस घर में 60 फुट का स्वीमिंग पूल है, जिसमें अंडर ग्राउंड म्यूजिक सिस्टम है. इसमें 2500 स्वायर फुट का जिम है और 1000 स्क्वायर फुट का डायनिंग हाल है. इसमें एक साथ 24 गेस्ट बैठकर डिनर कर सकते हैं.
लेव लिवएव का पैलीडियो
फो‌र्ब्स की रिच लिस्ट में लेव (468 वें नंबरपर) भले ही काफी पीछे हों लेकिन उनका घर इस रैंक के हिसाब से काफी ऊपर है. लंदन स्थित लेव के घर में गोल्ड प्लेटेड स्वीमिंग पूल है और घर में ही नाइट क्लब है. इस घर की कीमत 6.5 करोड़ डालर और इसका नाम पैलाडियो है. ये 17 हजार स्क्वायर फुट में फैला हुआ है. इसमें सात बेडरूम है और इसमें तमाम सुख-सुविधाओं का इंतजाम है.
लैरी एलिसन
फो‌र्ब्स के मुताबिक ओरैकल के को-फाउंडर लैरी एलिसन का घर 16वीं सेंचुरी के किसी जापानी महल की याद दिलाता है. लेरी एलिसन फो‌र्ब्स के अरबपतियों की लिस्ट में चौथें नंबर पर हैं और उनकी जायदाद 22.5 अरब डालर है. उनका वुडसाइड में बने घर के बारे में कहा जाता है कि इसे बनाने में 10 करोड़ डालर का खर्च आया है. यह 23 एकड़ में फैला हुआ है.
जार्ज लुकास
अरबपति फिल्म मेकर जॉर्ज लुकास का शानदार घर भी इस लिस्ट में काफी ऊपर है. इस घर के लिए अलग से फायर बिग्रेड है. घर के चारों तरफ पांच एकड़ में जैतून के बाग हैं. इस घर में मधुमक्खियों की पूरी बस्ती है और पेट के लिए ढेर सारी जगह है. लुकास फो‌र्ब्स की लिस्ट में 205वें नंबर पर हैं और उनकी जायदाद है तीन अरब डालर.
मुकेश का घर होगा सबसे महंगा
फो‌र्ब्स की व‌र्ल्ड रिच लिस्ट में देश की सबसे बड़ी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज के ेचयरमैन मुकेश अंबानी भले ही सातवें नंबर पर हो लेकिन उनका मुंबई में बन रहा सपनों का आशियाना दुनिया का सबसे महंगा आशियाना होगा. फो‌र्ब्स ने लास्ट ईयर इसको दुनिया का सबसे महंगा घर करार दिया था. मुकेश के इस घर का नाम अंटीला है और यह 27 मंजिला होगा लेकिन इसकी ऊंचाई 60 मंजिल के बराबर होगी. इसकी कीमत 2 अरब डालर होगी. इसकी खास बात यह है कि इसमें हर फ्लोर डिफरेंट होगा यानि किसी फ्लोर की बनावट रिपीट नहीं होगी यानि 9 वें फ्लोर में मेटल, वुड और क्रिस्टल का यूज किया गया तो 11 फ्लोर में इन मैटेरियल्स का बिल्कुल भी यूज नहीं किया जाएगा.



पॉपुलर नहीं था राबिनहुड!

LONDON (14 March, Agency): आज रोबिनहुड किसी पहचान का मोहताज नहीं. उसके कारनामें शायद ही किसी की नॉलेज में न हो.अमीरों को लूट कर गरीबों को बांटने वाला मध्ययुगीन इंग्लैंड के इस हीरो की मिसाल आज भी दी जाती है. लेकिन हाल ही में मिली कुछ पुरातन पांडुलिपियों पर यकीन किया जाए तो राबिनहुड और मेरी मेन कहलाने वाले उसके साथी जनता में उतने फेमस नहीं थे, जितने कि लोककथाओं में बताए जाते हैं.
कहानियों, नाटकों और जाने कितनी हॉलीवुड फिल्मों का सब्जेक्ट बन चुके रोबिनहुड के विषय में इस 550 साल पुरानी पांडुलिपी में काफी नकारात्मक टिप्पणी की गई है. इटन कॉलेज की लाइब्रेरी में मिली लैटिन में लिखी 23 शब्दों की इस पांडुलिपि में कहा गया है कि लोगों के मुताबिक इस समय रोबिनहुड और उसके साथियों ने इंग्लैंड के शेरवुड और उसके आस-पास के इलाकों में आतंक फैलाया हुआ है. यह पांडुलिपि मध्ययुगीन इतिहास की एक बुक पोलीक्रानिकान का हिस्सा है. किसी अज्ञात भिक्षु द्वारा लिखी ये बुक स्काटलैंड की सेंट एंड्रयूज यूनिवर्सिटी में कला का इतिहास पढ़ाने वाले डा. जूलियन लक्सफोर्ड को मिली. दरअसल डा.लक्सफोर्ड 15वीं शताब्दी के रेखाचित्रों पर रिसर्च के सिलसिले में इटन कालेज आए हुए थे. यहां लाइब्रेरी में उन्हें ये बुक और उसमें रोबिनहुड के बारे में ये टिप्पणी मिली.
लक्सफोर्ड बताते हैं कि जब मैंने हस्तलिपि में रोबिनहुड के बारे पढ़ा तब मुझे लगा कि मैंने कुछ विशेष ढूंढ निकाला है. पोलीक्रानिकान किताब 1340 ई. में लिखी गई थी. इटन कॉलेज में मौजूद कॉपी 1420 ई. की है और डा. लक्सफोर्ड के मुताबिक उसमें राबिनहुड के विषय में की गई टिप्पणी 1460 ई. में जुड़ी. वैसे राबिनहुड के विषय में पहले भी नकारात्मक टिप्पणियां मिलती रही हैं, मगर अब तक इस मध्ययुगीन नायक का उल्लेख या तो गरीबों के मसीहा के रूप में होता था या फिर एक ऐसे लुटेरे के रूप में जिसमें कुछ अच्छे गुण भी थे. मगर ये पहली बार है जब रोबिनहुड के बारे में एक पूर्णतया नकारात्मक टिप्पणी सामने आई है. डा. लक्सफोर्ड बताते हैं ये पांडुलिपी बताती है कि उस समय आम जनता और चर्च में राबिनहुड के प्रति रोष था. राबिनहुड के विषय में ये दुर्लभ टिप्पणी सोमरसेट के विथम मठ में की गई थी.



Pair dies together at Swiss clinic



i next desk
(6 March): अपने लाइफ पार्टनर के साथ जीने और साथ ही मरने की कसम तो सभी खाते हैं लेकिन कुछ ही लोग होते हैं जो इस कसम को निभाते हैं. ब्रिटेन में एक दूसरे से प्यार करने वाले ऐसे ही एक मैरीड कपल ने एक साथ दम तोड़ा. यह कपल पिछले काफी समय से कैंसर से पीड़ित था और लास्ट वीक स्विटजरलैंड के एक इयूथेरेसिया क्लिनिक में उनकी मौत हो गई. यह पहला ब्रिटिश कपल है जिसने मौत के लिए सुसाइड क्लिनिक का यूज किया.
फेमस बिजिनेसमैन
80 साल के पीटर डफ ब्रिटेन के फेमस बिजनेसमैन थे. उन्हें वाइन के एक्सपर्ट के रूप में जाना जाता था. पिछले काफी सालों से वे लीवर कैंसर से पीड़ित थे. उनकी 70 साल की वाइफ पॉपी भी एक रेयर कैंसर का शिकार थीं. दोनों का ही कैंसर एडवांस स्टेज पर पहुंच चुका था. दो बच्चों के पिता पीटर पिछले दिनों ज्यूरिक इयूथेनेसिया क्लिनिक गए ताकि उन्हें पेनलेस डेथ मिल सके.
शायद न लौट पाऊं
पीटर के एक फ्रेड्स के अनुसार पिछले दिनों पीटर ने उससे कहा था कि वे बाथ में बने अपने करोड़ों रुपए के बंगले को छोड़कर डोरसेट स्थिति दूसरे घर जा रहे हैं और शायद लौटकर न आएं. बाद में वे ज्यूरिक के क्लिनिक चले गए. कैंसर पीड़ित हसबैंड और वाइफ ने यहां साथ-साथ दुनिया से रुखसत होने का फैसला किया. लास्ट वीक उनकी मौत हो गई.
इट वास शॉकिंग
पीटर के पड़ोसियों का कहना है कि वे एक एक्टिव पर्सन थे. अपने आखिरी समय तक अपने अपना काम खुद करते थे. जब उन लोगों को पीटर और उनकी वाइफ की बीमारी के बारे में पता चला तो वे लोग शाक्ड रह गए. पीटल का इंटरेस्ट आर्ट में बहुत था. तीस साल पहले ही इस कपल ने बाथ में करोड़ों रुपए का मकान खरीदा था. पूरे घर को पेंटिंग्स से सजाया था.


Goody’s cancer spreads to brain

LONDON (3 March, Agency): पेट के भयानक दर्द से छुटकारा दिलाने के लिए किए गए ऑपरेशन के बाद रियलिटी स्टार जेड गुडी का कैंसर ब्रेन तक पहुंच गया है.
27 वर्षीया गुडी को मंगलवार को सुबह लंदन के रायल मार्सडन से निकटवर्ती चेलसी और वेस्टमिंस्टर हॉस्पिटल में सर्जरी के लिए एडमिट कराया गया. बिग ब्रदर की स्टार को लास्ट इयर सर्विकल कैंसर हो गया था जो लीवर और पेट तक फैल गया था. गुडी की एक फ्रेंड ने कहा था कि जेड को सप्ताहांत में हॉस्पिटल में बताया गया था कि कैंसर उनके ब्लड के फ्लो के साथ बहते बहते उनके ब्रेन तक पहुंच गया है. कैंसर के ब्रेन में पहुंचने के बाद बार-बार दौरे, तेज सिर दर्द, मितली और चक्कर आने की शिकायत जैसे लक्षण हो सकते हैं.
फ्रेंड ने बताया कि निश्चित तौर पर यह काफी भयावह है लेकिन असंभावित नहीं है. इससे उसकी उम्र पर कोई असर नहीं पड़ेगा क्योंकि अभी उनका जीवन कुछ हफ्ते का और है लेकिन निश्चित तौर पर यह इस बात को याद दिला रहा है कि अभी आगे क्या कुछ होना है.



Issue: World Trade Centre attack
CIA ने नष्ट किए विवादास्पद टेप


NEW YORK/WASHINGTON (3 March, Agency): सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी (सीआईए) ने पूछताछ संबंधी 92 विवादास्पद टेपों को नष्ट कर दिया है. यह बात बराक ओबामा एडमिनिस्ट्रेशन ने न्यूयॉर्क की एक कोर्ट को बताई है. एडमिनिस्ट्रेशन ने इस घटना को दुखद बताया है. टेप 11 सितंबर के अटैक्स के बाद सीआईए द्वारा की गई पूछताछ से जुड़े हैं.
यह जानकारी अमेरिकी सिविल लिबर्टीज यूनियन की पेटीशन के जवाब में फॉर्मर बुश एडमिनिस्ट्रेशन के तहत सीआईए द्वारा पूछताछ संबंधी 92 टेपों को नष्ट करने के बारे में ला मिनिस्ट्री ने दी. पेटीशन में फॉरेन में अमेरिकी कस्टडी में रह रहे कैदियों के साथ किए गए बर्ताव के बारे में रिकॉर्ड तलब किया गया था.
सबूतों को छिपाने की कोशिश
आर्गनाइजेशन की एडवोकेट अमृत सिंह ने एक बयान में आरोप लगाया कि बड़ी संख्या में वीडियो टेप को नष्ट करने से इस बात की पुष्टि होती है कि एजेंसी अवैध पूछताछ और कोर्ट के आदेश के पालन से बचने के लिए सबूतों को छिपाने की कोशिशों में लगी थी.
अमृत इंडियन प्राइम मिनिस्टर मनमोहन सिंह की बेटी हैं. अमृत सिंह ने कहा, हमारी कंटेंप्ट पेटीशन साल भर से अधिक समय से लंबित है. अब समय आ गया है जब ला का कंटेंप्ट करने के लिए सीआईए को जवाबदेह ठहराया जाए. कार्यकारी अमेरिकी एडवोकेट लेव दासिन ने न्यूयॉर्क की कोर्ट को दिए एक लेटर में कहा कि सीआईए अब नष्ट की गई टेप की संख्या बता सकती है. 92 टेपों को नष्ट किया गया. नष्ट किए गए टेप के डिटेल की जानकारी नहीं दी गई.
यह बेहद दुखद है
इस इश्यू पर एक सवाल के जवाब में व्हाइट हाउस के स्पोक्सपर्सन रॉबर्ट गिब्स ने कहा, निश्चित तौर पर यह अच्छी बात नहीं है. यह बेहद दुखद है. गिब्स ने कहा कि नए सीआईए डायरेक्टर और नए अमेरिकी एडमिनिस्ट्रेशन के तहत हम लोगों को यह बताना चाहते हैं कि सीआईए में काम-काज और हमें सुरक्षित रखने के लिए वे जिन तौर-तरीकों का यूज करते हैं, वे सुरक्षित हैं लेकिन उन्हें इस तरह करना चाहिए ताकि हमारे मूल्यों को भी सुरक्षित रखा जा सके.



UK nuclear HQ under terror threat


LONDON (2 March, Agency): टॉप सिक्योरिटी एक्सप‌र्ट्स ने चेतावनी दी है कि ब्रिटेन के सेंसटिव मिलिट्री साइट पर गूगल अर्थ के जरिए टेररिस्ट्स का खतरा मंडरा रहा है. इसमें न्यूक्लियर डिफेंस हेडक्वॉर्टर भी शामिल है.
इंटरनेट पर ब्रिटेन के टॉप इंटेलिजेंस नेवल अड्डे समेत सेंसटिव मिलिट्री साइट के करीब के हवाई सीन उपलब्ध हैं. 16 न्यूक्लियर मिसाइलों को ले जाने में सक्षम ब्रिटेन की दो सबमैरीन को इंटरनेट पर साफतौर पर देखा जा सकता है. आर्मी के सीनियर अफसरों ने आशंका जताई है कि गूगल अर्थ का इस्तेमाल करके टेररिस्ट ब्रिटेन के न्यूक्लियर डिफेंस हेडक्वार्टर पर आसानी से मोर्टार या रॉकेट दाग सकते हैं.
निशाने पर ऑफिस
द सन ने एक टॉप सिक्योरिटी एक्सपर्ट के हवाले से कहा है कि हमारे न्यूक्लियर सेंटर पर हवाई हमला हो सकता है. उन्होंने कहा कि टेररिस्ट्स को पता हो सकता है कि उन्हें कहां निशाना साधकर हमला करना है. रिपोर्ट में कहा गया है कि नॉर्थ लंदन के नॉर्थवुड स्थित ब्रिटेन के न्यूक्लियर हेडक्वार्टर, एमआई 6 के लंदन ऑफिस और एसएएस ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट्स को इंटरनेट सर्च इंजन के जरिए निशाना बनाया जा सकता है. आर्मी के एक स्पोक्सपर्सन के हवाले से न्यूजपेपर ने कहा है कि यदि कोई इन ठिकानों को निशाना बनाना चाहे तो वह इनकी तस्वीरें खोज सकता है और उन्हें रोकने के लिए हमारे पास करने के लिए कुछ नहीं है.

यह सामग्री http://www.inext.co.in/epaper/default.aspx से ली हैं।

No comments:

Post a Comment