Pages

Wednesday, March 10, 2010

Chip दूर करेगी आपकी चिंता

आने वाले कुछ सालों में आप बिना क्रैश के डर के हवाई यात्राएं कर सकेंगे. बिना गाड़ी के खराब होने के डर के लंबी रोड जर्नी कर सकेंगे, और तो और ऊंची इमारतों की लिफ्ट में फिर कभी लिफ्ट के गिरने का, खतरा नहीं रहेगा. मशीन में होने खराबी की आपको पहले ही इंफॉरमेंशन मिल जाएगी.
Life होगी easy
सेंसर बेस्ड इंटेलीजेंट मशीनरी चिप के बन जाने के बाद आपको अपनी कार के डैशबोर्ड पर भी ध्यान देने की जरूरत नहीं होगी. पेट्रोल खत्म होने से पहले ही आपके मोबाइल पर आया एसएमएस बता देगा कि कार में कितना पेट्रोल बचा है, और कितनी दूर तक चलेगी या इंजन कितना हीटअप हो गया है. किसानों को भी पता चल जाया करेगा कि उनका ट्रैक्टर कब खराब होने वाला है.
आईआईटी में मंगलवार को इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग द्वारा आर्गनाइज्ड हेल्थ मॉनीटरिंग ऑफ आटोमोटिव्स वर्कशॉप में डिपार्टमेंट के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. निश्चल वर्मा ने बताया कि विभाग पुणे स्थित एक विदेशी कंपनी जॉन डेयर के साथ मिलकर सेंसर बेस्ड इंटेलीजेंट मशीनरी चिप बना रहे हैं. इसे अभी तो ट्रैक्टर बनाने वाली कंपनी अपने लिए उपयोग करेगी. बाद में इस चिप का प्रयोग हवाई जहाज से लेकर कारों, बाइकों, मल्टी स्टोरी बिल्डिंगों की लिफ्टों में किया जाएगा. इससे बहुत से खतरों का पता पहले ही चल जाएगा. लोगों को हादसे का डर नहीं रहेगा.
इस चिप के सेंसरों से निकलने वाले सिग्नलों को एक डेटा सेंटर पर रिसीव करके, मॉनीटर करके, जीएसएम फोन नेटवर्क का यूज करके चिप के मालिक के मोबाइल नंबर पर एसएमएस या कंप्यूट्राइज्ड कॉल के रूप में वापस भेज दिया जाएगा. ये चिप मशीन के हर एक पुर्जे का आकलन करके बताएगी कि वो कितना खराब या ठीक है. कितने और दिन काम करेगा, कब ब्रेकडाउन होने की संभावना है.

No comments:

Post a Comment