Pages

Wednesday, April 29, 2009

3 more arrested in Satyam fraud

HYDERABAD (6 April, Agency):
सबसे बड़े कॉरपोरेट फ्रॉड में फंसी देश की चौथी सबसे बड़ी आईटी कंपनी सत्यम घोटाले के सिलसिले में तीन और लोगों को अरेस्ट किया गया है. घोटाले की जांच कर रही है सीबीआई ने बीती रात सत्यम के तीन इंप्लाइज को अरेस्ट किया है. इसमें सत्यम का एक टॉप एग्जीक्यूटिव भी शामिल है. सीबीआई के डीआईजी वी वी लक्ष्मी नरायण ने बताया कि जिन लोगों को अरेस्ट किया गया है उनमें वाइस प्रेसीडेंट (फाइनेंस), जी गोपालकृष्ण समेत फाइनेंस डिपार्टमेंट से ही दो और लोग डी वेंकटपति राजू और श्री साइलम शामिल हैं. डीआईजी ने बताया कि इन इंप्लाइज ने फ्रॉड का पूरा मकैनिज्म तैयार किया है. ये लोग फर्जी बैंक स्टेटमेंट्स और बाकी डॉक्यूमेंट्स तैयार करते थे. आईसीआईए की दो मेंबर्स वाली हाई-पावर्ड टीम जब कंपनी के फार्मर सीएफओ वादलामणि से पूछताछ कर रही थी तब वदलामणि ने गोपालकृष्णन के नाम का जिक्र किया था. इन तीन गिरफ्तारियों को मिलाकर सत्यम घोटाला मामले में अब तक 8 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. सीबीआई ने तीनों को सोमवार को स्पेशल कोर्ट में पेश किया. कोर्ट ने इन आरोपियों को 10 दिनों की ज्यूडिशल कस्टडी में चंचलगुडा जेल भेज दिया है. श्रीनिवास सत्यम घोटाले के आरोपी हैं और राजू ब्रदर्स फार्मर चेयरमैन बी रामलिंगा राजू व फार्मर एमडी बी रामाराजू के साथ हैदराबाद स्थित चंचलगुडा सेंट्रल जेल में बंद हैं. इनके अलावा कंपनी की आडिटर रही दिग्गज एकाउंटिंग फर्म प्राइसवाटरहाउसकूपर्स (पीडब्ल्यूसी) बर्खास्त इंप्लाइज एस. गोपालकृष्णन व ताल्लुरी श्रीनिवास भी जेल में हैं. आईसीएआई के चेयमरैन उत्तम कुमार अग्रवाल की अध्यक्षता वाली दो सदस्यीय टीम ने आरोपी वी श्रीनिवास से रविवार को पूछताछ की थी. इसमें कंपनी के इस फार्मर सीएफओ ने राजू ब्रदर्स को घोटाले का सूत्रधार बताते हुए हरकदम पर दोनों का साथ देने की बात मानी थी. पूछताछ में उसने हेराफेरी में राजू ब्रदर्स का साथ देने वाले रामकृष्ण समेत तीन नामों का भी खुलासा किया था. इसके बाद सीबीआई ने इन आरोपियों को अरेस्ट कर लिया. आईसीएआई की टीम ने पीडब्ल्यूसी के दोनों बर्खास्त इंप्लाइज से भी पूछताछ की. आईसीएआई की जांच टीम को श्रीनिवास ने बताया कि राजू ब्रदर्स पिछले चार-पांच सालों से कंपनी के अकाउंट्स में हेराफेरी को अंजाम दे रहे थे. खुद रामलिंगा राजू ने 7 हजार 800 के इस फ्रॉड का खुलासा करते हुए 7 जनवरी को चेयरमैन पद से इस्तीफा दे दिया था.

No comments:

Post a Comment